दुनिया के 10 सबसे छोटे देश क्षेत्रफल के अनुसार

दुनिया में कुल 194 से अधिक देश हैं। देश शब्द के बारे में सोचने पर दिमाग में बड़ी संख्या में लोग और एक बड़ा भूमि क्षेत्र का ही ख्याल आता है। लेकिन कुछ देश इतने छोटे हैं कि अन्य वे अन्य देशों के शहरों में समा जाएं। दुनिया में कई देश हैं जिनका कुल क्षेत्रफल 400 वर्ग किलोमीटर से भी कम है और ये ज्यादातर यूरोप, कैरेबियन और प्रशांत क्षेत्र में पाए जाते हैं।

दुनिया के 10 सबसे छोटे देशों का कुल मिलाकर क्षेत्रफल 1491.4 वर्ग किलोमीटर है, जो ह्यूस्टन, टेक्सास शहर के क्षेत्रफल 1625.2 वर्ग किलोमीटर से भी कम है। इन छोटे देशों में कुछ दुनिया के सबसे अमीर, सबसे दूरस्थ और सबसे पेचीदा स्थानों में भी हैं। आइये जानते हैं दुनिया के 10 सबसे छोटे देशों के बारे में।

10. माल्टा – 316 किमी²

10 सबसे छोटे देश

माल्टा भूमध्य सागर में एक द्वीप देश है। माल्टा गणराज्य तीन द्वीपों से बना है, गूज़ो, कोमिनो और माल्टा, जो तीनों में सबसे बड़ा है। इस छोटे से देश में 450,000 से अधिक निवासियों की आबादी है, जो इसे दुनिया के सबसे घनी आबादी वाले देशों में से एक बनाता है। माल्टा में आकर्षक समुद्र तटों, समृद्ध इतिहास और नाइटलाइफ़ के लिए दुनिया भर से विदेशी लोग आते हैं। माल्टा में 316 वर्ग किलोमीटर का क्षेत्र शामिल है, जो इसे दुनिया के सबसे छोटे देशों में दसवें स्थान पर रखता है।

9. मालदीव – 300 किमी²

मालदीव दुनिया का 9वां सबसे छोटा देश

मालदीव एशिया के हिंद महासागर में एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है और क्षेत्रफल और जनसंख्या के हिसाब से एशिया का सबसे छोटा देश भी है। मालदीव में 1,192 से अधिक प्रवाल द्वीप  हैं, जो 90,000 वर्ग किमी में फैले हुए हैं, जो इसे दुनिया के सबसे बिखरे हुए देशों में से एक बनाता है।

मालदीव एक समय में कई साम्राज्यों, पुर्तगाली, डच और ब्रिटिशों का उपनिवेश था। मालदीव 1965 में एक स्वतंत्र देश बन गया। आज, मालदीव अपने प्रसिद्ध सफेद रेत के समुद्र तटों और क्रिस्टल जैसे साफ नीले पानी के कारण एक बहुत ही आकर्षक पर्यटन क्षेत्र है। मालदीव दुनिया का नौवाँ सबसे छोटा देश है जिसका कुल क्षेत्रफल 300 वर्ग किलोमीटर है।

8. सेंट किट्स और नेविस – 261 वर्ग किलोमीटर

सैंट किट्ट्स एंड नेविस दुनिया का आठवां सबसे छोटा देश

वेस्ट इंडीज की मदर कॉलोनी और कैरिबियन के ये 2 द्वीप यूरोपियों के कब्जे वाले पहले द्वीप थे। सेंट किट्स और नेविस का क्षेत्रफल 261 वर्ग किलोमीटर है, जो इसको दुनिया का आठवां सबसे छोटा देश बनाता है। यह पर्यटन के लिए भी एक अच्छी जगह के रूप में इस्तेमाल होता है। सेंट किट्स और नेविस देश की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से पर्यटन, छोटे विनिर्माण उद्योगों और कृषि पर निर्भर हैम यहां पर समुद्री तट और उन पर खेले जाने वाले खेलों के लिए यह एक शानदार जगह है। यह देश समुद्र में गोता खोरी करने के लिए भी प्रसिद्ध है और यहां समुद्र के किनारे खूबसूरत रिसॉर्ट और होटल इसकी सुंदरता को और बढ़ा देते हैं।

7. मार्शल द्वीप – 181 वर्ग किलोमीटर

मार्शल द्वीप दुनिया का सातवां सबसे छोटा देश

मार्शल आइलैंड्स, जिसे आधिकारिक रूप से मार्शल आईलैंड्स गणराज्य कहा जाता है, एक द्वीप देश है जो अमेरिका के हवाई राज्य और ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के बीच लगभग आधे रास्ते में प्रशांत महासागर में है। इसे माइक्रोनेशिया का हिस्सा माना जाता है। द्वीपों से घिरे इस मार्शल द्वीप देश में आश्चर्यजनक रूप से 800 से अधिक मछलियों की प्रजाति और 160 से ज्यादा समुद्री मूंगे की प्रजातियां पाई जाती है। मार्शल द्वीप के आसपास का क्षेत्र भी कई जहाज़ों की मेजबानी करता है। 181 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल के साथ, मार्शल द्वीप दुनिया का सातवां सबसे छोटा देश है।

6. लिकटेंस्टीन – 160 किमी²

लिकटेंस्टीन दुनिया का छठवां सबसे छोटा देश

लिकटेंस्टीन एक जर्मन भाषी देश, यह दुनिया का एकमात्र ऐसा देश है जो पूरी तरह से ऐल्प्स या आल्प्स में स्थित है। (ऐल्प्स या आल्प्स मध्य यूरोप की सबसे बड़ी और 1200 किलोमीटर लंबी पर्वतमाला है जो यूरोप के 8 देशों से होकर गुजरती है। )

स्विट्जरलैंड  और ऑस्ट्रिया के बीच स्थित, लिकटेंस्टीन प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद द्वारा दुनिया का सबसे अमीर देश है। और लिकटेंस्टीन सबसे कम बेरोजगारी दर (केवल 1.5%) है। लिकटेंस्टीन में प्रवेश करना थोड़ा मुश्किल है, क्योंकि यहां कोई हवाई अड्डा नहीं है। यहां पर आने वाले लोगों को स्विट्जरलैंड के ज्यूरिक हवाई अड्डे से होकर आना पड़ता है। लिकटेंस्टीन देेश में अभी भी एक राजकुमार द्वारा शासित देेेश है। 160 वर्ग किमी के साथ, लिकटेंस्टीन दुनिया का छठा सबसे छोटा देश है।

5. सैन मैरिनो – 61 किमी²

सैन मैरिनो दुनिया का पांचवा सबसे छोटा देश

इटली से घिरे हुए सैन मैरिनो को सैन मैरिनो के सबसे शांत गणराज्य के रूप में भी जाना जाता है। सैन मैरिनो प्रति व्यक्ति जीडीपी के मामले में सबसे धनी देशों में से एक है यह यूरोप का तीसरा सबसे छोटा देश है जिसकी आबादी केवल 30000 है। सैन मैरिनो सबसे पुरानी संप्रभु सभ्यता होने का भी दावा करता है। सैन मैरिनो देश दुनिया में सबसे कम बेरोजगारी दर वाले हो देशों में से एक है। स्कूल एक्सस 8 वर्ग किलोमीटर के साथ यह दुनिया का पांचवां सबसेे छोटा देश है।

4. तुवालु – 26 किमी²

तुवालु दुनिया का चौथा सबसे छोटा देश

तुवालू प्रशांत महासागर में हवाई और आस्ट्रेलिया के बीच स्थित एक पोलिनेशियाई द्वीपीय देश है। इसके निकटवर्ती देश किरिबाती, समोआ और फिजी हैं। यह एलिस द्वीप समूह के रूप में भी जाना जाता है। तुवालु कुल 26 वर्ग किमी के साथ दुनिया का चौथा सबसे छोटा देश है।

तुवालु देश में लगभग मात्र दस हजार लोग ही रहते हैं। तुवालू देश में केवल 8 किमी सड़कें हैं, और मुख्य द्वीप पर केवल एक अस्पताल मौजूद है। तुवालू देश में पहले ब्रिटिश का शासन थ।था। इस देश को 1978 में स्वतंत्रता मिल गई। इस देश की स्थिति के कारण पर्यटन यहाँ बहुत नहीं है। यहां पर अधिकतर बाहरी लोग केवल व्यवसाय के लिए ही आते हैं।

3. नौरू – 21 किमी²

नौरू दुनिया का तीसरा सबसे छोटा देश

नौरू ऑस्ट्रेलिया के पूर्व में स्थित एक द्वीप देश है, जो दुनिया का सबसे छोटा द्वीप देश है। यह 1980 के दशक में अपने बढ़ते फॉस्फेट खनन के लिए जाना जाता था। लेकिन अब नौरू में पर्यटकों का आना जाना बेहद कम है, और यह शांत द्वीप के रूप में जाना जाता है। इसके फॉस्फेट संसाधन अब समाप्त हो गए हैं, जिससे यहाँ बेरोजगारी की दर 90% तक पहुंच गई है।

नारू को दुनिया में सबसे अधिक मोटे लोगों के देश के रूप में भी जाना जाता है। नौरू में 97% पुरुष और 93% महिलाएं मोटापे या अधिक वजन से ग्रसित हैं। इस वजह से, नौरु दुनिया के टाइप 2 मधुमेह से पीड़ित लोगों के उच्चतम स्तर पर है। यहाँ की 40% आबादी टाइप 2 मधुमेह से पीड़ित है। नौरू का कुल क्षेत्रफल 21 वर्ग किलोमीटर है, जो इसे दुनिया का तीसरा सबसे छोटा देश बनाता है।

2. मोनाको – 2 किमी²

मोनाको दुनिया का दूसरा सबसे छोटा देश

फ्रेंच रिवेरा पर स्थित, मोनाको दुनिया में प्रति व्यक्ति करोड़पति और अरबपतियों की दर में उच्चतम स्थान पर है। मोनाको दुनिया का दूसरा सबसे छोटा देश है, जिसका कुल क्षेत्रफल केवल 2 वर्ग किलोमीटर है। मोनाको के लोग बहुत अमीर हैं और लक्जरी जीवन जीते हैं। मोनाको के लोग जुंआ भी बहुत खेलते हैं। मोनाको तीन तरफ से फ्रांस से घिरा है, और उसके एक तरफ भूमध्य सागर से। मोनाको के ज्यादातर लोग फ्रेंच भाषा बोलते हैं।

मोनाको का क्षेत्रफल भले ही केवल 2 वर्ग किलोमीटर है, लेकिन वहाँ की आबादी 36,0000 से अधिक है। इसीलिए मोनाको 36 हजार आबादी के साथ दुनिया का सबसे घनी आबादी वाला देश है। मोनाको में होने वाला सबसे लोकप्रिय वार्षिक खेल फार्मूला 1 रेस है, जिसमें सड़क से होकर गुजरने वाले ट्रैक हैं।

1. वेटिकन सिटी – 0.44 किमी²

वेटिकन सिटी दुनिया का सबसे छोटा देश

दुनिया का सबसे छोटा देश वेटिकन सिटी,यह होली सी के नाम से भी जाना जाता है। केवल 0.44 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल के साथ, वेटिकन सिटी भूमि क्षेत्र के अनुसार दुनिया का सबसे छोटा देश है। यह देश पूरी तरह से इटली की राजधानी रोम के भीतर स्थित है और कैथोलिक चर्च का केंद्र है।

सेंट पीटर की बासीलीक, चर्च वेटिकन सिटी में है, जो कि दुनिया का सबसे बड़ा चर्च है। जिसमें पुनर्जागरण काल की कुछ सबसे महत्वपूर्ण कलाकृतियाँ हैं, जैसे कि द पिएटा और क्रिएशन ऑफ़ एडम

वेटिकन सिटी की आय दुनिया भर में रोमन कैथोलिक चर्च के 1 बिलियन से अधिक सदस्यों के स्वैच्छिक योगदान से होती है। इसकी अर्थव्यवस्था का बाकी हिस्सा डाक टिकट, पर्यटक स्मृति चिन्ह और संग्रहालयों की प्रवेश फीस से आता है।

जानिए दुनिया के सभी देशों के निम्नतम और उच्चतम बिंदु

विश्व के सभी देशों की मुद्राओं की सूची

Leave a Comment